ज्योतिष वास्तु और किसी भी प्रकार के रत्न के लिये फोन करे – 7309053333

श्रीमद् भागवत पुराण कथा क्या है ?

astroadmin | March 19, 2018 | 0 | अध्यात्म और धर्म

श्रीमद् भागवत पुराण कथा = श्रीमद् + भागवत + पुराण + कथा (चार शब्दों से बना है) इसलिए चारों शब्दों को एक – एक करके निम्नलिखित रूप से समझा जा सकता है –

‘श्रीमद’ शब्द भागवत का राज तिलक है । श्रीमद् शब्द संस्कृत वाङ्मय के केवल दो ही ग्रंथ के आगे प्रयोग होता हैं –

  1. श्रीमद् भगवत गीता
    2. श्रीमद् भागवत महापुराण

भागवत पुराणों का सम्राट है तो गीता स्मृतियों की साम्राज्ञी है ।
‘भागवत’ = भा +ग + व + त = चार शब्दों से मिल कर बना है ।

भागवत का आध्यात्मिक अर्थ – भा यानी भक्ति, ग यानी ज्ञान, व मतलब वैराग्य और त से तत्व है । जब जीवन में भक्ति का शुभारम्भ होता है तो ज्ञान पैदा होता है और ज्ञान के होने पर वैराग्य की उत्पत्ति होती है और वैराग्य दृढ़ होने पर शनै: – शनै: तत्व (परमात्मा) की प्राप्ति हो जाती है ।

भागवत का भौतिक अर्थ – भा यानी भानु (सूर्य) या रोशनी का सूत्र, ग यानी गति (निरंतरता) व मतलब विवेचन (अध्ययन) एवं त से तत्व (ईश्वर) है । जब मानव के जीवन में प्रकाश होता है तभी वह क्रियात्मक स्थिति में आता है और जीवन के लक्ष्य – अलक्ष्य का विवेचन करके ही मानव तत्व यानी ईश्वर की प्राप्ति कर पाता है ।

व्याकरण की दृष्टि से पुराण का अर्थ होता है पुराना । परंतु पुराण अति प्राचीन होते हुए बी वर्तमान समस्याओं का समाधान करके सही दिशा निर्देश प्रदान करते हैं ।

पुराण –
पूर्ण केवल एक ईश्वर ही है । पुराणों में केवल श्रीमद् भागवत पुराण ही ऐसा पुराण है जो मानव – जीवन के प्रत्येक पक्ष के लिए अपने आप में परिपूर्ण है ।

कथा –
श्रीमद् भागवत जी की कथा देव दुर्लभ है । यह स्वर्ग में देवताओं को भी नहीं मिलती । यह कथा केवल पृथ्वी पर ही उपलब्ध है । इसलिए श्रीहनुमाान जी
ने स्वर्ग जाने से मना कर दिया था और वे साक्षात रूप से कथा सुनने पृथ्वी पर पधारते हैं । स्वर्ग में सुधा है परंतु कथा सुधा तो वसुधा पर ही हैै

Related Posts

कल्पवास

astroadmin | January 10, 2019 | 0

कल्पवास वेदकालीन अरण्य संस्कृति की देन है। कल्पवास का विधान हज़ारों वर्षों से चला आ रहा है। जब तीर्थराज प्रयाग में कोई शहर नहीं था तब यह भूमि ऋषियों की…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

दैनिक पन्चांग

तत्काल लिखे गये

फेसबुक

सबसे ज्यादा देखे जाने वाले

दिन के अनुसार देखे

January 2019
S M T W T F S
« Dec    
 12345
6789101112
13141516171819
20212223242526
2728293031  

स्तोत्रम

अब तक देखा गया

  • 50,190

नये पोस्ट को पाने के लिये अपना ईमेल लिख कर सब्सक्राइब करे


ज्योतिष वास्तु और किसी भी प्रकार के रत्न के लिये फोन करे – 7309053333
%d bloggers like this: