ज्योतिष वास्तु और किसी भी प्रकार के रत्न के लिये फोन करे – 7309053333

शनि और मंगल के राशि परिवर्तन का फल

astroadmin | March 18, 2018 | 0 | संस्कृत श्लोक

ज्योतिष शास्त्र में शनि और मंगल दोनों को पाप ग्रह माना गया है। जन्मकुंडली में इनकी अशुभ स्थिति जिस भाव में होती है, उस भाव के फल को नष्ट करके व्यक्ति को परेशानियों में डाल देती है। शनि व मंगल परस्पर शत्रुता रखते हैं। इसीलिए यदि किसी कुंडली में ये दोनों ग्रह साथ-साथ हों, तो चाहे शुभ भावों में ही क्यों न बैठे हों, जीवन को कष्टकार बनाते ही हैं। ज्योतिष शास्त्र में शनि-मंगल की युति को द्वंद्व योग कहा गया है। इस साल शनि और मंगल की युति 7 मार्च से 2 मई 2018 तक हो रही है। इसलिए ये 57 दिन न केवल प्रत्येक राशि के जातकों के लिए परेशानी भरे हो सकते हैं, बल्कि देश-दुनिया के लिए भी शनि-मंगल की युति भयानक युद्ध जैसे हालात भी पैदा कर सकती है। शनि पहले से ही धनु राशि में चल रहे हैं। 7 मार्च 2018 को सायं 6.30 बजे मंगल के भी धनु राशि में प्रवेश करने के साथ ही शनि-मंगल की युति बन जाएगी। मंगल इस राशि में 2 मई को सायं 4.18 बजे तक रहेगा।

शनि-मंगल की युति होने पर जीवन में अनेक घटनाएं आकस्मिक होती हैं, जिसके बारे में व्यक्ति को अंदेशा भी नहीं होता है। वैवाहिक जीवन, नौकरी, व्यवसाय, संतान, पारिवारिक सुख इनसे संबंधित शुभ-अशुभ घटनाएं जीवन में अचानक घटती हैं। अचानक विवाह जुड़ना, अचानक प्रमोशन, बिना कारण घर बदलना, नौकरी छूटना, कार्यस्थल या शहर-देश से पलायन आदि शनि-मंगल युति के आकस्मिक परिणाम होते हैं। चूंकि मंगल और शनि दोनों ही पापी ग्रह हैं इसलिए ये प्रत्येक जातक को प्रभावित करेंगे। आइये चंद्र राशि के अनुसार जानते हैं किस राशि वालों के लिए इस युति का क्या परिणाम होगा
मेष राशि: इस राशि और लग्न वालों के लिए शनि-मंगल की युति नवम या धर्म स्थान में होगी। इस युति का असर मेष राशि वालों के स्वास्थ्य पर होगा, जिसके कारण स्वभाव में चिड़चिड़ापन बढ़ेगा। गुस्से पर नियंत्रण नहीं रखेंगे लेने के देने पड़ सकते हैं। नवम भाव दूरस्थ यात्राओं का भी भाव है। इसलिए बेवजह की यात्राओं में धन और समय नष्ट होगा। अचानक कोई बुरी खबर मिलने पर कहीं जाना पड़ सकता है। धार्मिक, आध्यात्मिक उन्नति रूक जाएगी और आप बुरी संगत में भी पड़ सकते हैं।

वृषभ राशि: वृषभ राशि और लग्न वालों के लिए शनि-मंगल युति की युति अष्टम भाव में हो रही है। इस राशि के जातक अचानक किसी बड़े रोग के शिकार हो सकते हैं। वाहन चलाते समय अत्यंत सावधानी रखना होगी, वरना दुर्घटना और फ्रैक्चर वगैरह होने का अंदेशा रहेगा। मशीनरी और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का उपयोग सावधानीपूर्वक करें, करंट लग सकता है। शनि-मंगल युति का असर आपकी निजी जिंदगी पर भी होगा। धैर्य और वाणी पर संयम रखते हुए परिवार के सदस्यों की बात सुनें और उनकी जरूरतों का ध्यान रखें।[

तुला राशि: इस राशि और लग्न के लिए तीसरे भाव में शनि-मंगल युति हो रही है। इनके लिए मिलाजुला असर रहेगा। कई छोटी-मोटी परेशानियों से घिरे रहेंगे। कभी अचानक कहीं से अच्छा पैसा आ जाएगा, तो कभी अचानक ज्यादा पैसा चला भी जाएगा। बीमारियों पर खर्च होने की आशंका ज्यादा है। परिवार के किसी सदस्य, भाई-बहन को अचानक स्वास्थ्य संबंधी बड़ी परेशानी आ सकती है। संयम से काम लेना होगा। आपके लिए अच्छी बात यह है कि पैसों की व्यवस्था खुद-ब-खुद हो जाएगी,आपको भटकना नहीं पड़ेगा।

वृश्चिक राशि: चूंकि यह मंगल की ही राशि है और धन स्थान यानी दूसरे भाव में शनि-मंगल की युति हो रही है, इसलिए मंगल तो इनके लिए शुभ रहेंगे लेकिन शनि दोगुना नुकसान पहुंचाने का प्रयास करेंगे। आर्थिक मामलों में सतर्क रहें। यदि कोई प्रॉपर्टी खरीदना चाह रहे हैं तो 57 दिन कोशिश करें कि ना खरीदें। अति उत्साह में किया गया कार्य तकलीफदेह साबित होगा। पारिवारिक जीवन में भी मतभेद होगा। संपत्ति को लेकर विवाद होगा। शत्रु सक्रिय रहेंगे। कोई आपका अपना ही आपकी प्रतिष्ठा को हानि पहुंचा सकता है।

धनु राशि: इस राशि में ही शनि-मंगल की युति हो रही है। इसलिए सबसे ज्यादा धनु राशि के जातक प्रभावित होंगे। इस राशि का स्वामी गुरु है इसलिए जीवन में बड़े द्वंद्व की स्थिति रहेगी। अचानक आई मुसीबतों में खुद को संभालने की आवश्यकता होगी। जीवन में बहुत सी चीजें उथल-पुथल हो जाएंगी। प्रेम संबंध टूटेंगे। दांपत्य जीवन में दिक्कत आएगी। आर्थिक संकट, मान-सम्मान, पद में कमी आएगी। व्यापारियों को हानि उठाना पड़ेगी। नौकरीपेशा व्यक्तियों का प्रमोशन अटक सकता है।
मकर राशि: इस राशि वालों के लिए द्वादश भाव यानी व्यय स्थान में शनि-मंगल बैठकर खर्च अधिक करवाएंगे। व्यर्थ के कार्यों पर धन खर्च होगा। इस दौरान भाग्य आपका साथ नहीं देगा। आपका स्वभाग उग्र हो जाएगा इसलिए विवाद भी अधिक होंगे। परिवारजनों के साथ सामंजस्य बनाकर रखेंगे तो कई परेशानियों से बच जाएंगे। क्रोध पर नियंत्रण रखना होगा। वाहन-मशीनरी का उपयोग करते समय सावधानी रखें। नई प्रॉपर्टी और वाहन खरीदने की बात अभी 57 दिन भूल जाएं। इतनी सब परेशानी आने के बावजूद इस राशि वालों को प्रयास करना नहीं छोड़ना चाहिए क्योंकि आगे चलकर अभी की कोशिशें रंग लाएंगी।

कुंभ राशि: इस राशि वालों के लिए शनि-मंगल का मिलन एकादश भाव यानी आय स्थान में होगा। इनके लिए शुभ संकेत यह है कि अचानक कहीं से भारी मात्रा में पैसा आ सकता है। या तो कोई रूका हुआ या फंसा हुआ पैसा आपको मिलेगा। संपत्ति खरीदने के योग भी बन रहे हैं, लेकिन ध्यान रखें अच्छी तरह सोच-विचारकर ही कदम बढ़ाएं। नया बिजनेस प्रारंभ करना चाहते हैं तो अभी रूक जाएं। स्वास्थ्य की दृष्टि से यह युति ठीक नहीं कही जा सकती। स्वयं, माता-पिता या संतान को कोई बीमारी आएगी।

मीन राशि: इस राशि वालों का दशम स्थान शनि-मंगल प्रभावित करेंगे। यह स्थान बिजनेस, नौकरी, प्रमोशन, सरकारी जॉब आदि का स्थान है। ये सभी काम युति के कारण अटकेंगे। कुछ काम चलते-चलते अचानक अटकेंगे। जिन युवाओं की सगाई हो गई है, वह टूट सकती है। मानसिक तनाव बना रहेगा। इससे स्वास्थ्य भी बिगड़ सकता है। मन को शांत रखते हुए जो जैसा चल रहा है उसे चलने दें, कुछ नया करने की कोशिश बिल्कुल न करें। अन्यथा परेशानियां बढ़ सकती हैं। यह बृहस्पति की राशि है इसलिए कोई ऐसा कार्य न करें, जिससे आप अपमानित महसूस करें।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

दैनिक पन्चांग

तत्काल लिखे गये

फेसबुक

सबसे ज्यादा देखे जाने वाले

दिन के अनुसार देखे

January 2019
S M T W T F S
« Dec    
 12345
6789101112
13141516171819
20212223242526
2728293031  

स्तोत्रम

अब तक देखा गया

  • 50,201

नये पोस्ट को पाने के लिये अपना ईमेल लिख कर सब्सक्राइब करे


ज्योतिष वास्तु और किसी भी प्रकार के रत्न के लिये फोन करे – 7309053333
%d bloggers like this: