ज्योतिष वास्तु और किसी भी प्रकार के रत्न के लिये फोन करे – 7309053333

भागवत विद्या

astroadmin | March 19, 2018 | 0 | अध्यात्म और धर्म

जीव और ईश्वर के मिलन के लिए पहले पूतना वासना का नाश होना चाहिए  ।
<><>
अविद्या (पूतना) नष्ट होने से जीवन की गाड़ी राह पर आने लगती है ,और शकटासुर का नाश होता है ।जीवन सही रास्ते पर चलने लगता है ,तब तृणावर्त-,रजोगुण नष्ट होकर सत्त्वगुण बढ़ने लगता है ।
<><>
रजोगुण मिटने के बाद कन्हैया माखन-मन की चोरी करते हैं  और जीवन सात्विक बनता है । जीवन सात्विक होने पर आसक्ति की मटकी फूट जाती है । दही की मटकी – संसारासक्ति की मटकी ।
<><>
संसारासक्ति नष्ट होने पर प्रभू जीव के पाश में बंधते हैं । यही दामोदर लीला है । प्रभू के बंधने पर दम्भ – बकासुर , और पाप-ताप -अघासुर का बध होता है ।
<><>
सांसारिक ताप नष्ट होने पर दावाग्नि नष्ट होती है ,शान्त होती है ।अत: इन्द्रियाँ शुद्ध हुई ,अन्त:करण की वासना का क्षय हुआ ।। यही नागदमन , और प्रलम्बासुर बध है ।
<><>
जीव ईश्वर से मिलने के योग्य होने पर कृष्ण की मधुर मुरली की मधु- रिमा तान सुन पाता है । वेणुगीत अर्थात् नादब्रह्म की उपासना ।
<><>
गोवर्धन लीला । गो – इन्द्रियों का संवर्धन , इन्द्रियों के पुष्ट होने पर भक्ति रस उत्पन्न होता है  । इन्द्रियों  की पुष्टि  होने पर  षडरस का और वरूण देव का पराभव होता है ।
<><>
चीरहरण लीला – बाह्यावरण , अज्ञान और वासना के नष्ट होने पर     रासलीला होती है , जीव और ब्रह्म का मिलन होता है ।।

Related Posts

कल्पवास

astroadmin | January 10, 2019 | 0

कल्पवास वेदकालीन अरण्य संस्कृति की देन है। कल्पवास का विधान हज़ारों वर्षों से चला आ रहा है। जब तीर्थराज प्रयाग में कोई शहर नहीं था तब यह भूमि ऋषियों की…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

दैनिक पन्चांग

तत्काल लिखे गये

फेसबुक

सबसे ज्यादा देखे जाने वाले

दिन के अनुसार देखे

January 2019
S M T W T F S
« Dec    
 12345
6789101112
13141516171819
20212223242526
2728293031  

स्तोत्रम

अब तक देखा गया

  • 49,793

नये पोस्ट को पाने के लिये अपना ईमेल लिख कर सब्सक्राइब करे


ज्योतिष वास्तु और किसी भी प्रकार के रत्न के लिये फोन करे – 7309053333
%d bloggers like this: