ज्योतिष वास्तु और किसी भी प्रकार के रत्न के लिये फोन करे – 7309053333

जानने योग्य जानकारी

astroadmin | January 9, 2019 | 0 | अध्यात्म और धर्म , सामान्य जानकारी

हमारे चार वेद है।
1] ऋग्वेद
2] सामवेद
3] अथर्ववेद
4] यजुर्वेद

कुल 6 शास्त्र है।
1] वेदांग
2] सांख्य
3] निरूक्त
4] व्याकरण
5] योग
6] छंद

हमारी 7 नदियां।
1] गंगा
2] यमुना
3] गोदावरी
4] सरस्वती
5] नर्मदा
6] सिंधु
7] कावेरी

 हमारे 18 पुराण।
1] मत्स्य पुराण
2] मार्कण्डेय पुराण
3] भविष्य पुराण
4] भगवत पुराण
5] ब्रह्मांड पुराण
6] ब्रह्मवैवर्त पुराण
7] ब्रह्म पुराण
8] वामन पुराण
9] वराह पुराण
10] विष्णु पुराण
11] वायु पुराण
12] अग्नि पुराण
13] नारद पुराण
14] पद्म पुराण
15] लिंग पुराण
16] गरुड़ पुराण
17] कूर्म पुराण
18] स्कंद पुराण

 पंचामृत।
1] दूध
2] दहीं
3] घी
4] मध
5] साकर

पंचतत्व।
1] पृथ्वी
2] जल
3] तेज
4] वायु
5] आकाश

तीन गुण।
1] सत्व्
2] रज्
3] तम्

तीन दोष।
1] वात्
2] पित्त्
3] कफ

तीन लोक।
1] आकाश लोक
2] मृत्यु लोक
3] पाताल लोक

सात महासागर।
1] क्षीरसागर
2] दधिसागर
3] घृतसागर
4] मथानसागर
5] मधुसागर
6] मदिरासागर
7] लवणसागर

सात द्वीप।
1] जम्बू द्वीप
2] पलक्ष द्वीप
3] कुश द्वीप
4] पुष्कर द्वीप
5] शंकर द्वीप
6] कांच द्वीप
7] शालमाली द्वीप

 तीन देव।
1] ब्रह्मा
2] विष्णु
3] महेश

तीन जीव।
1] जलचर
2] नभचर
3] थलचर

चार वर्ण।
1] ब्राह्मण
2] क्षत्रिय
3] वैश्य
4] शूद्र

 चार फल (पुरुषार्थ)।
1] धर्म
2] अर्थ
3] काम
4] मोक्ष

चार शत्रु।
1] काम
2] क्रोध
3] मोह
4] लोभ

 चार आश्रम।
1] ब्रह्मचर्य
2] गृहस्थ
3] वानप्रस्थ
4] संन्यास

अष्टधातु।
1] सोना
2] चांदी
3] तांबु
4] लोह
5] सीसु
6] कांस्य
7] पित्तल
8] रांग

पंचदेव।
1] ब्रह्मा
2] विष्णु
3] महेश
4] गणेश
5] सूर्य

 चौदह रत्न।
1] अमृत
2] ऐरावत हाथी
3] कल्पवृक्ष
4] कौस्तुभ मणी
5] उच्चै:श्रवा अश्व
6] पांचजन्य शंख
7] चंद्रमा
8] धनुष
9] कामधेनु गाय
10] धनवंतरी
11] रंभा अप्सरा
12] लक्ष्मी माताजी
13] वारुणी
14] वृष

नवधा भक्ति।
1] श्रवण
2] कीर्तन
3] स्मरण
4] पादसेवन
5] अर्चना
6] वंदना
7] मित्र
8] दास्य
9] आत्मनिवेदन

चौदह भुवन।
1] तल
2] अतल
3] वितल
4] सुतल
5] रसातल
6] पाताल
7] भुवलोक
8] भुलोक
9] स्वर्ग
10] मृत्युलोक
11] यमलोक
12] वरुणलोक
13] सत्यलोक
14] ब्रह्मलोक.

Related Posts

कल्पवास

astroadmin | January 10, 2019 | 0

कल्पवास वेदकालीन अरण्य संस्कृति की देन है। कल्पवास का विधान हज़ारों वर्षों से चला आ रहा है। जब तीर्थराज प्रयाग में कोई शहर नहीं था तब यह भूमि ऋषियों की…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

दैनिक पन्चांग

तत्काल लिखे गये

फेसबुक

सबसे ज्यादा देखे जाने वाले

दिन के अनुसार देखे

January 2019
S M T W T F S
« Dec    
 12345
6789101112
13141516171819
20212223242526
2728293031  

स्तोत्रम

अब तक देखा गया

  • 49,793

नये पोस्ट को पाने के लिये अपना ईमेल लिख कर सब्सक्राइब करे


ज्योतिष वास्तु और किसी भी प्रकार के रत्न के लिये फोन करे – 7309053333
%d bloggers like this: