ज्योतिष वास्तु और किसी भी प्रकार के रत्न के लिये फोन करे – 7309053333

ग्रहों के कारकत्व

astroadmin | March 19, 2018 | 0 | ज्योतिष सीखें

1. प्रथम भाव (तनु) – इस भाव का कारक
सूर्य है। इसमे मिथुन, कन्या, तुला और कुंभ राशियों मे से कोई राशि हो, तो उसे बलवान माना जाता है।
2. दूसरा भाव (धन) – इस भाव का कारक गुरू है।
3. तीसरा भाव (सहज) – इस भाव का कारक
मंगल है।
4. चतुर्थ भाव (सुख) – इस भाव का कारक
चंद्र और बुध है।
5. पंचम भाव (पुत्र) – इस भाव कारक गुरू है।
6. पष्ठ भाव (रिपु) – इस भाव का कारक
मंगल और शनि है।
7. सप्तम भाव (जाया) – इस भाव का कारक शुक्र है।
8. अष्टम भाव (आयु) – इस भाव का कारक
शनि है।
9. नवम भाव (धर्म) – इस भाव का कारक गुरू और रवि है।
10. दशम भाव (कर्म) – इस भाव का कारक रवि, बुध, गुरु और शनि है।
11. एकादश भाव (लाभ) – इस भाव का कारक गुरू है।
12. द्वादश भाव (व्यय) – इस भाव का कारक शनि, शुक्र है।
कारक
सूर्य
आत्मा, अहम्, सहानुभूति प्रभाव , यश, स्वास्थ्य, दाएँ नेत्र, दिन, ऊर्जा, पिता, राजा, राजनीति, चिकित्सा विज्ञान गौरव, पराक्रम का कारण है।
चन्द्रमा
मन, रुचि, सम्मान, निदा्र , पा्र सन्नता, माता, सत्ता, धन, यात्रा, जल का कारक है।मंगल शक्ति, साहस, पराक्रम, प्रतियोगता, क्रोध, उत्तेजना, षडयन्त्र, शत्रु, विपक्ष विवाद, शस्त्र, सेनाध्यक्ष, युद्ध दुर्घटना जलना, घाव, भूमि, अचल सम्पत्ति छोटा भाई, चाचा के लड़के, नेता, पुलिस सर्जन, मैकेनिकल इंजीनियर का कारक है।
बुध
बुद्धिमता, वाणी पटुता, तर्क, अभिव्यक्ति, शिक्षा, गणित, ज्याेितषी, लेखाकार, व्यापार, कमीशन एजेंट, प्रकाशन राजनीति में मध्यवर्ती व्यक्ति, नृत्य, नाटक, वस्तुओं का मिश्रण पत्तेवाले पेड़, मूल्यवान पत्थरों की परीक्षा मामा, मित्र सम्बन्धि आदि।
बृहस्पति
विवेक, बुद्धिमता, शिक्षण, शरीर की मांसलता, धार्मिक कार्य ईश्वर के प्रति निष्ठा, बडा़ भाई, पवित्र स्थान, दार्शिकता, धामिर्क ग्रन्थ का पठन, पाठन, गुरु, अध्यापक, धन बैंक, तीना कम्पनियां , दान देना, परोपकार फलदार वृक्ष, पुत्र आदि।
शुक्र
पति/पत्नी, विवाह, रतिक्रिया, प्रम सम्बन्ध, संगीत, काव्य, इत्र सुगन्ध, घर की सजावट ऐश्वर्य, दूसरों के साथ सहयोग, फूल फूलदार वृक्ष, पौधे सौंदर्य, आखों की रोशनी, आभूषण, जलीय स्थान, सिल्कन कपड़ा, सफेद रंग, वाहन, शयन कक्ष आदि सुख सामग्री आदि।
शनि
आयु, दुख, रोग, मृत्यु संकट अनादर, गरीबी, आजीविका, अनैतिक तथा अधार्मिक कार्य, विदेशी भाषा, विज्ञान तथा तकनीकी शिक्षा मेहनत वाले कार्य, कृषीगत व्यवसाय, लोहा, तेल, खनिज पदार्थ, कर्मचारी, सेवक नौकरियां, वृद्ध मन्ति, पंगुता, अगंभगं, लाभ, लालच बिस्तर पर पड़े रहना, चार दिवारी में बन्द रहना, जेल, हास्पीटल में पड़े रहना, वायु, जोड़ों के दर्द, कठोरवाणी आदि।
राहु
दादा का कारक गृह है कठोर वाणी, जुआ, भ्रामक तर्क, गतिशीलता, यात्राए, विजातीय लोग, विदेशी लोग, विष, चोरी.दुष्टता, विधवा, त्वचा की बिमारिया, होठ. धामिर्क यात्राए, दर्द आदि।
केतु
नाना का कारक ग्रह है। दर्द, ज्वर, घाव, शत्रुओं को नुकसान पहुंचाना, तांत्रिक तन्त्र, जादू-टोना, कुत्ता, सींग वाले पशु, बहुरंगी पक्षी, मोक्ष का कारक ग्रह है।

Related Posts

जन्म-कुंडली में दशम स्थान

astroadmin | January 8, 2019 | 0

जन्म-कुंडली में दशम स्थान- जन्म-कुंडली में दशम स्थानको (दसवां स्थान) को तथा छठे भाव को जॉब आदि के लिए जाना जाता है। सरकारी नौकरी के योग को देखने के लिए…

आज के दौर में ज्योतिष विद्या

astroadmin | January 8, 2019 | 0

आज के दौर में ज्योतिष विद्या के बारे में अनेकों भ्रान्तियाँ फैली हैं। कई तरह की कुरीतियों, रूढ़ियों व मूढ़ताओं की कालिख ने इस महान विद्या को आच्छादित कर रखा…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

दैनिक पन्चांग

तत्काल लिखे गये

फेसबुक

सबसे ज्यादा देखे जाने वाले

दिन के अनुसार देखे

January 2019
S M T W T F S
« Dec    
 12345
6789101112
13141516171819
20212223242526
2728293031  

स्तोत्रम

अब तक देखा गया

  • 50,201

नये पोस्ट को पाने के लिये अपना ईमेल लिख कर सब्सक्राइब करे


ज्योतिष वास्तु और किसी भी प्रकार के रत्न के लिये फोन करे – 7309053333
%d bloggers like this: